टॉप 5 हिंदी उपन्यास, जिन्हे जीवन में एक बार जरूर पढ़ना चाहिए

दुनिया में हर तरह के लोग होते हैं और सबका स्वभाव और व्यहार भी अलग-अलग होता है। कुछ लोगो को गाना पसंद होता है तो वही कुछ को घूमना। इसके इतर भी कुछ लोग ऐसे होते हैं जिन्हे किताबे पढ़ने का बहुत शौक होता है। ऐसे लोग अक्सर नयी-नयी किताबो की खोज में रहते हैं ताकि वो उसे पढ़ सके। अगर आप भी उन्ही लोगो में से एक है जिन्हे किताबे पढ़ने का शौक है और top hindi books to read की खोज में हैं तो ये लेख खासतौर से आपके लिए ही है।

इस बात से तो पूरी दुनिया अवगत है की भारत का ज्ञान और इसकी संस्कृति बहुत ही वाइब्रेंट (vibrant) है। भारत ने साहित्य और कला में जो योगदान दिया है उसके लिए भारत को पहचाना जाता है। भारत में top hindi writers और उनके किताबो की खूब चर्चा होती है। क्यूंकि भारत में समय-समय महान साहित्यकारों ने जन्म लिया, जिन्होंने अपने कलम से दुनिया को ज्ञान देने का कार्य किया। यदि आप एक विद्यार्थी हैं और best hindi books for students की तलाश में हैं। तब भी ये आर्टिकल आपको कुछ ऐसे हिंदी किताबो के बारे में जानकारी देने वाला है, जिसे आप खुद को मोटीवेट करने के लिए पढ़ सकते हैं। इस आर्टिकल में हम आपको top 5 hindi novels के बारे में जानकारी देने वाले हैं।

गोदान – मुंशी प्रेमचंद – 1936

‘गोदान (Godan)’ का नाम तो आपने जरूर सुना होगा। स्कूलों में भी गोदान सिलेबस का हिस्सा होता है। मुंशी प्रेमचंद (Munshi Premchand) की रचना गोदान एक बहुत ही अध्भुत नॉवेल (godan novel) है। मुंशी प्रेमचंद की कहानियों में गरीबो और किसानों का दर्द न हो ऐसा हो ही नहीं सकता है। गोदान की कहानी भी एक ऐसे ही किसान की है जिसकी ज़िन्दगी गरीबी और मुफलिसी में बीत जाती है।

वहीं अगर बात की जाए godan ki summary in hindi की तो यह कहानी ‘होरी’ नामक एक किसान की है जिसपर गरीबी और बदनामी हावी हो जाती है। साल 1936 में गोदान उपन्यास का पहली बार प्रकाशन किया गया। गोदान का अर्थ होता है ‘ गाय का दान ‘। भारत में गाय को पूजने की परंपरा है। गोदान कहानी दर्शाती है की कैसे एक समाज में जहां अलग-अलग किरदार रहते हैं, और अपने जीवन को साधने का प्रयास करते हैं। ऋण का दुष्चक्र, गरीबी, और शत्रुता इस उपन्यास के केंद्र में है। गोदान उपन्यास में पात्रो और चरित्रों का बहुत ही बेहतरीन तरीके से दिखाया गया है। अगर आप किसी ऐसी कहानी की खोज में है जिससे आपको किसानो की दुर्दशा को समझने में आसानी हो तो आपको गोदान उपन्यास जरूर पढ़नी चाहिए।

आनंद मठ – बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय – 1882

भारतीय संस्कृति के बहुत सारे आयाम है जिसे समझना सबके लिए महत्वपूर्ण है। आनंद मठ भी ऐसा ही उपन्यास है जिसमे देशभक्ति शीर्ष कार्यो में से एक है। देशभक्ति से सम्बंधित किसी तरह के कंटेंट को आप पढ़ना और जानना चाहते हैं तो आनंद मठ (Anand Math Novel ) आपके लिए सर्वोत्तम उपन्यास है। आनंद मठ बंगाली उपन्यास है जिसे 1882 में मशहूर बंगाली लेखक बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय (Bankim Chandra Chatterjee) ने लिखा था। वही अगर बात की जाए anand math kya hai की तो आनंद मठ एक उपन्यास है जिसके केंद्र में देशभक्ति की भावना और विद्रोह है। जहां पर कहानी और पात्र सब कोई अपने देश सेवा के प्रति प्रतिबद्ध है। इसमें बताया गया है की किस तरह 1773 के सन्यासी विद्रोह ने भारत के लोगो को उनके व्यवहार के प्रति जागरूक किया।

आनंद मठ की कहानी उस दौर की विभीषिका को दर्शाती है जब बंगाल भीषण अकाल के गाल में समा गया था। उस समय सन्यासी विद्रोह ने किस तरह इससे निबटने में अपनी भूमिका निभाई, इस बात को दर्शाती है। आनंद मठ उपन्यास को पढ़कर देशभक्ति की भावना चरम पर पहुंच जाती है। इसके अलावा अगर बात की जाए राष्ट्रीय गीत कहाँ से लिया गया है तो भारत का राष्ट्रीय गीत बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय के उपन्यास आनंद मठ से ही लिया गया है।

तमस – भीष्म साहनी – 1973

अक्सर इतिहास के कालखंड में कुछ ऐसी घटनाये होती है जिनका हमारे वर्तमान जीवन पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है। कुछ यादें भुलाये नहीं भूली जाती। तमस उपन्यास (Tamas Novel) भी एक ऐसा ही उपन्यास है जिसका सांप्रदायिक हिंसा से बहुत गहरा नाता है। साल 1973 में प्रकाशित हुए इस उपन्यास ने न केवल अनैतिक मानवीय मूल्यों को उजागर किया अपितु सामाजिक व्यवहार का सच भी सबके सामने लाना का प्रयास किया। तमस उपन्यास के केंद्र में एक ऐसी हिंसा है जिसे पढ़कर दुःख होता है।

तमस राजनीतिक उपन्यास है, जिसमे भीष्म साहनी (Bhishm Sahni) ने बहुत ही उम्दा तरीके से हिंसा की विभीषिका को कागज़ पर उकेरा है। तमस उपन्यास को पढ़ते-पढ़ते मन स्वतः ही कल्पना करने लगता है की उस दौर में क्या-क्या हुआ होगा ? तमस भीष्म साहनी की सर्वश्रेष्ठ रचनाओं में से एक है। यदि आप राजनीतिक उपन्यास पढ़ना चाहते हैं तो आपको tamas bhishm sahni को जरूर पढ़ना चाहिए। तमस पढ़कर आप इतिहास के उस मार्मिक चित्र की कल्पना कर पाएंगे जिसे कहीं और से जानना बहुत कठिन है।

निर्मला – मुंशी प्रेमचंद -1927

हिंदी में एक से बढ़कर एक उपन्यास लिखे गए हैं। इसी कड़ी में अगला नाम जुड़ता है निर्मला उपन्यास (Nirmala Novel) का जो की मुंशी प्रेमचंद ने लिखा है। निर्मला हिंदी उपन्यास है जो 1927 में प्रकाशित किया गया था। महिला वेदना और संघर्ष की कहानी को बहुत ही बढ़िया तरीके से मुंशी प्रेमचंद ने इस उपन्यास के माध्यम से दर्शाया है। कहानी इतनी बेहतरीन है की एक बार पढ़ने के लिए बैठो तो बिना ख़त्म किया उठ नहीं सकते।

वहीं अगर बात की जाए nirmala munshi premchand summary की तो ये कहानी है निर्मला नामक एक महिला की जिसकी शादी उस से बड़े व्यक्ति से हो जाती है जिसके पहले से ही तीन पुत्र होते हैं। निर्मला की कहानी एक ऐसी महिला की है जिसका जीवन संघर्ष, बदनसीबी और बदनामी में बीत जाता है। महिला केंद्रित ये उपन्यास हर व्यक्ति को पढ़ना चाहिए क्यूंकि इसमें महिला वेदना को जिस तरह से प्रकट किया गया है उसे शायद ही किसी और पुस्तक में व्यक्ति किया गया है। निर्मला की कहानी को पढ़ते-पढ़ते आँख में आंसू आ जाते हैं। निर्मला की कहानी काफी इमोशनल है। इमोशनल कहानी पढ़ना चाहते हैं तो nirmala upnayas ki kahani जरूर पढ़े।

चंद्रकांता – देवकीनन्दन खत्री – 1888

चंद्रकांता उपन्यास व्याख्या करता है एक ऐसे प्रेम की जिसमे दुश्मनी, घृणा, धूर्तता, और तिलिस्म है। चंद्रकांता देवकीनन्दन खत्री (Devaki Nandan Khatri) द्वारा 1888 में लिखा गया एक काल्पनिक हिंदी उपन्यास है। जिसके केंद्र में प्रेम और दुश्मनी है। रोमांटिक फेंटेसी पर आधारित चंद्रकांता नॉवेल (Chandrakanta Novel) अपने समय की बहुत ही चर्चित पुस्तक है। ऐसा कहा जाता है की जिन्हे हिंदी या देवनागरी नहीं आती थी उन्होंने सीख कर ये पुस्तक पढ़ा था।

तिलिस्म और ऐयारी के संगम पर लिखा गया ये उपन्यास बहुत ख़ास है। खासतौर से उन लोगो के लिए जिन्हे प्रेम कहानी पर आधारित पुस्तक पढ़ने में रूचि है। अगर बात की जाए chandrakanta novel summary in hindi की तो चंद्रकांता नौगढ़ विजयगढ़ की कहानी को दर्शाती है जो की स्थानों के नाम है। नौगढ़ के राजकुमार वीरेन्द्रसिंह और विजयगढ़ की राजकुमारी चंद्रकांता को एक दूसरे से प्रेम हो जाता है किन्तु दोनों राजघरानो में दुश्मनी होने के कारण इस प्रेम में बड़ी कठिनाई आती है। इस कहानी को पढ़ने मात्र से प्रेम का अनुभव होने लग जाता है। तो अगर आप प्रेम पर आधारित उपन्यास पढ़ना चाहते हैं तो चंद्रकांता उपन्यास को जरूर पढ़ें।

हिंदी में अबतक हर तरह के उपन्यास प्रकाशित हो चुके है। चाहे वो लव स्टोरी नॉवेल हो या राजनीतिक नॉवेल या फिर ग्रामीण परिवेश को इंगित करता किसी गरीब किसान की कहानी। सबने पाठको को हंसाया – रुलाया और उनका मनोरंजन करने का कार्य किया।

इस लेख में हमने आपको 5 best hindi novels list दी है। जहां से आप अपनी रूचि के अनुसार किसी भी उपन्यास को पढ़ सकते हैं। इनकी कहानियां इतनी बेहतरीन है की एक बार पढ़ने के बाद मन नहीं भरता। यही वजह है की इन्हे प्रकाशित होने के सालो बाद तक भी इन पुस्तकों ने अभी तक पाठको के दिलो में अपनी जगह बना रखी है। विद्यार्थी जीवन एक बहुत ही महत्वपूर्ण समय होता है। अगर आप best hindi books to read for students की तलाश में हैं, तो आपको इन पुस्तकों को जरूर पढ़ना चाहिए। उम्मीद करते हैं टॉप 5 हिंदी उपन्यास लेख से आपका ज्ञानवर्धन जरूर हुआ होगा

Leave a Reply

Your email address will not be published.